अंक: December 2013
 
Home     
DETAIL STORY
 
 
पृष्ठ कथा 
पी एल 480 से राष्ट्रीय खाद्द सुरक्षा कानून 2013
  आगे पढें ...
अग्र लेख

खाद्द सुरक्षा क़ानून : क्या भूख और कुपोषण का खात्मा कर पायेगा ?
किरीट एस पारिख
आगे पढें ...
Articles
  खाद्द सुरक्षा क़ानून : क्या भूख और कुपोषण का खात्मा कर पायेगा ?
किरीट एस पारिख
  लोकसभा द्वारा...
  राष्ट्रीय खाद्द सुरक्षा कानूनब पर कुछ विचार
अशोक कोतवाल
मिलिंद मुरुगकर
भारत रामास्वामी
  राष्ट्रीय खाद सुरक्षा विधेयक...
  खाद्द सुरक्षा : अधिकार एवं चुनौतियां
राजेश रपरिया
  सांसद में...
  खाद्द सुरक्षा अधिनियम का क्रियान्वयन
मधुरा स्वामीनाथन
  खाद्द सुरक्षा ...
  खाद्द सुरक्षा : पोषण और जनस्वास्थ्य
ए के अरुण
  राष्ट्रीय खाद्द सुरक्षा..
चौराहे पर प्रसार भारती
जवाहर सरकार

प्रसार भारती की स्थापना 28 नवंबर, 1997 को उस समय हुई थी जब सरकार प्रसार भारती अधिनियम, 1990 को अंतत : लागू करने का निर्णय किया | आकाशवाणी और दूरदर्शन को सूचना और प्रसारण मंत्रालय से अलग करते हुए एक ' स्वायत्त निकाय' के अंतर्गत रखा गया | यह एक ऐतिहासिक निर्णय था जी संसद द्वारा लोक लेवा प्रसारक की स्थापना के लिए अधिनियम बनाय जाने के 7 वर्ष बाद किया गया , जिसके स्वरुप को उसके लक्ष्यों और कारणों के कथन में व्यापक स्पष्ट किया गया है :

"आकाशवाणी और दूरदर्शन को स्वाय्यात्ता प्रशन करने के लिए एक स्वायत्त निगम की स्थापना करने और उसे आकाशवाणी तथा दूरदर्शन द्वारा निष्पादित किये जाने वाले कार्य करने का प्रस्ताव किया गया ताकि निष्पक्ष, विषयपरक और रचनात्मक ढंग से काम कर सकें |

प्रस्तावित निगम नवीनता, गतिशीलता और उच्च्स्तर्रीय विश्वासनीयता एवं लचीलेपन के साथ समुचित स्वायत्त निकाय के रूप में काम करेगा | यह ऐसे लोकतांत्रिक परम्पराएं और संस्थान समृद्ध होंगे , निगम लोगों और संसद के प्रति जवाबदेह होगा , और देश की बहिरंगी परम्पराओं, भाषाओं और संस्कृतियों को ध्यान में रख कर काम करेगा | तदनुरूप प्रसार भारती ( ब्राडकास्टिंग कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया ) विधेयक संसद में पेश किया गया |"



 
 
Regional Languages
Regional Languages
Hindi
English
Assamese
Bengali
Gujarati
Kannada
Malayalam
Marathi
Oriya
Punjabi
Tamil
Telugu
Urdu
खबरें और झलकियाँ
नियमित लेख
झरोखा जम्मू कश्मीर का : कश्मीर में रोमांचकारी पर्यटन
जम्मू-कश्मीर विविधताओं और बहुलताओं का घर है| फुर्सत के पल गुजारने के अनेक तरकीबें यहाँ हर आयु वर्ग के लोगों के लिए बेशुमार है| इसलिए अगर आप ऐडवेंचर टूरिस्म या स्पोर्ट अथवा रोमांचकारी पर्यटन में रूचि रखते हैं तो जम्मू-कश्मीर के हर इलाके में आपके लिए कुछ न कुछ है.
Copyright © 2008 All rights reserved with Yojana Home  |  Disclaimer  |  Contact